ब्रेकिंग न्यूज़
  • Home
  • शहडोल
  • रामकथा आयोजन: मर्यादा पुरुषोत्तम ने दी मर्यादा सीख
अनूपपुर उमरिया डिंडोरी शहडोल

रामकथा आयोजन: मर्यादा पुरुषोत्तम ने दी मर्यादा सीख

शहडोल बुलेटिन। भक्त से भगवान का मिलन आसान नहीं होता, लेकिन भक्त के प्राण में भगवान का निवास अवश्य होता है। जिस भक्त को भगवान की अनुभूति हो जाए, उसे जग में किसी भी मोह माया का असर नहीं होता। भगवान को प्राप्त करने के लिए भक्त कैसा हो, यह जानने के लिए हमे निश्छल होने की आवश्यकता है। ज्ञान से भक्ति प्राप्त नहीं की जा सकती। भाक्ति के लिए वैराग्य की आवश्यकता होती है। यह बात जैतपुर में आयोजित रामकथा अमृत वर्षा के दौरान कामद्गिरी पीठाधीश्वर अनंत श्री विभूषित जगद्गुरू स्वामी राम स्वरूपानंदाचार्य जी महराज ने उन्होंने राम कथा की महिमा का वर्णन करते हुए कहा कि जब राम ने मर्यादा पुरुषोत्तम का रूप धारण किया तो उन्होंने अपनी लीलाओं से मर्यादा के समस्त बंधनों की शिक्षा दी। राम ने भक्त की परिभाषा को बताने के लिए सबरी के झूठे बैर को खाकर प्रेम की परिभाषा निरुपित की।

उन्होंने अपने भक्तों को पे्रम के बंधन से बांधकर रखा। लोभ, मोह व माया का त्याग कैसे किया जाता है, इस बात को बतान के लिए उन्होंने राजपाट का त्याग कर 14 वर्ष के वनवास को स्वीकार किया। इस दौरान मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम ने देवी अहिल्या को गौतम ऋषि के श्राप से मुक्त किया। एक भक्त की वेदना को महसूस करते हुए पाषाढ़ में भी प्राण फूंकने का कार्य मर्यादा पुरुषोत्तम ने किया।

उन्होंने बाली का वध करके सुग्रीव को सिंहासन दिया और रावण का वध कर विभीषण का राज्याभिषेक लंका में कराया। उनके प्रत्येक लीला के पीछे एक उद्देश्य निहित है। जिसमें भक्त के प्रेम और भगवान के मिलन की अनुपम गाथा छिपी हुई है।

गौरतलब है कि आदिशक्ति जगत जननी मां सिंहवासिनी भठिया देवी की प्रेरणा से त्रिपाठी परिवार के द्वारा जैतपुर में चार दिवसीय रामकथा का आयोजन किया गया है। कुनुक पुल के समीप भास्कर शर्मा भोला महराज के घर में आयोजित कथा में वैदिक परम्पराओं के अनुसार गुरु पूजा का आयोजन किया गया। जिसमें कामदगिरी पीठाधीश्वर की शोभायात्रा निकाली गई और सम्पूर्ण धर्मानुरागियों को राम कथा अमृत वर्षा से भक्ति के सोपानों की गंगा बहाई गई। इस अवसर पर गुरु प्रेरणा का महत्व शिष्यों में दिखाई दिया। वह गुरु वचना को सुनने के लिए भाव-विभोर नजर आए।

रामकथा के दौरान स्थिानीय जैतपुर विधायक श्रीमती मनीषा सिंह के साथ ही श्रद्धालुओं तांता नजर आया। कार्यक्रम में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए पिढिय़ा परिवार द्वारा आयोजित कार्यक्रम में भक्तों ने रामरस का पान किया है।

Related posts

लालफीताशाही: कुलस्ते की कारस्तानी से परेशान किसान DM ने किया निराकरण, विभाग ने अटकाया रोड़ा, मामला खनिज विभाग का

Shahdol Bulletin

माफियाराज (9) रेत ठेकेदार वंशिका ग्रुप के कर्मियों ने पिता पुत्र को बीच चौराहे पर दौडकर मारा, पुलिस ने 08 कर्मचारियों पर किया मामला दर्ज….

Shahdol Bulletin

SECL: अवैध तरीके से किसने CUT किया मेन पाइप हजारों लीटर पानी सड़क पर बहा, कालरी कर्मचारियों की ये भी सुविधा का सत्याश….

Shahdol Bulletin

लगातार: आओ दिखला दे KPS विद्यालय 1BHK मे 277 छात्र, गार्डन, लाइब्रेरी न खेलमैदान, कैसी मिल जाती है मान्यता बडा सवाल ….

Shahdol Bulletin

Viral सच: एमपीईबी अधिकारी ने लगाया गंभीर आरोप, @1लाख नही है तो 80हजार ₹ दे दो, नही तो कर देंगे बदनाम 

Shahdol Bulletin

MP के इस कैबिनेट मंत्री का कैसा फोटोसेशन, विशाल भव्य स्वागत बगैर मॉस्क सोशल डिस्टेशिंग की उडी धज्जियां… लापरवाही का जिम्मेवार कौन बडा सवाल..?

Shahdol Bulletin

एक टिप्पणी छोड़ें